Samanya Gyan

आत्महत्या की थैली किसे कहते हैं

आत्महत्या की थैली किसे कहते हैं

लाइसोसोम्स झिल्लियों से ढकी हुई छोटी थैलियां है। जिनमें एन्जाइम्स विद्यमान रहता है जो प्रोटीन तथा लिपिडज को तोड़ने में सक्षम है। लाइसोसोम्स में पाये जाने वाले एन्जाइम्स विघटनकारी होने के कारण विभिन्न पदार्थों का पाचन करते हैं. यहां तक कि कुछ एन्जाइम्स तो अपनी कोशिका के कोशिकांगों का ही पाचन कर देते है, जिससे स्वयं कोशिका ही नष्ट हो जाती है। इसी कारण से लाइसोसोम्स या लयनकाय को आत्महत्या का थैला (Suicide Bag) भी कहते हैं।

आत्महत्या की थैली क्यों कहा जाता है?

लाइसोसोम में पाचक एन्जाइम होते है। जब कोशिका नष्ट होती है तो लाइसोसोम फट जाते है तथा एन्जाइम अपनी ही कोशिका को खा (पचा) लेते है । अतः लाइसोसोम को आत्मघाती की थैली कहते है

कोशिका की आत्महत्या की थैली कौन है?

कोशिका की आत्महत्या की थैली लाइसोसोम है

आत्मघाती थैली किस कोशिकांग को कहा जाता है और क्यों?

लाइसोसोम को आत्मघाती थैला कहते हैं क्योंकि यह पाचन में सहायक होते हैं, भोजन भंडारण में मदद करते हैं और कोशिका के अंत पर उसके पाचन में सहायक होते हैं। यह वस्तुओं को पचाने में स्वयं का बलिदान देते हैं, इसीलिए इन्हें आत्मघाती थैला कहते हैं।

लाइसोसोम कहाँ पाया जाता है?

लाइसोसोम, सबसेलुलर ऑर्गेनेल जो लगभग सभी प्रकार के यूकेरियोटिक कोशिकाओं (स्पष्ट रूप से परिभाषित नाभिक वाली कोशिकाओं) में पाया जाता है और जो मैक्रोमोलेक्यूल्स, पुराने सेल भागों और सूक्ष्मजीवों के पाचन के लिए जिम्मेदार होता है।

लाइसोसोम में कौन सा एंजाइम पाया जाता है?

लाइसोसोम हाइड्रोलाइटिक एंजाइमों जैसे प्रोटीज, लाइपेस और अन्य हाइड्रोलिसिस में समृद्ध होते हैं।

कोशिका में कितने लाइसोसोम होते हैं?

प्रति स्तनधारी कोशिका में 50 से 1,000 लाइसोसोम होते हैं, लेकिन कवक और पौधों में रिक्तिका कहलाने वाला एक बड़ा या बहुस्तरीय लाइसोसोम होता है।

लाइसोसोम का मुख्य कार्य क्या है?

1.लाइसोसोम का मुख्य काम पाचन करना होता है. इनमें से सबसे पहला कार्य  बाह्य कोशिकाओं का पाचन करना. लाइसोसोम के एंजाइम बाह्य कोशिका पदार्थ के जल के अपघटन की क्रिया में भाग लेते हैं.
2.इसका दूसरा काम अंतः कोशिकीय पाचन करना होता है. यानी कोशिका के अंदर होने वाले पाचन क्रिया लाइसोसोम की सहायता से ही होती है.
3.मृत कोशिकाओं का निष्कासन करना यानी यह अपशिष्ट पदार्थों का निष्कासन करते हैं. यानी कहा जाए तो अंतः कोशिकाओं का अपमार्जन करते हैं.
4. कोशिका विभाजन में सहायता करना यानी जब लाइसोसोम कोशिकाओं में भरते हैं तो उस समय कोशिका विभाजन शुरू होता है.

लाइसोसोम कितने प्रकार के होते हैं?

लाइसोसोम मुख्य रूप से चार प्रकार के होते हैं. जैसे

1.प्राथमिक लाइसोसोम

प्राथमिक लाइसोसोम को संचय या सेक्रेटरी वेसेल्स भी कहते हैं. यह काफी छोटे गोल एवं थैली सदृश रचनाएं हैं. जिनमें अनेक एंजाइम पाए जाते हैं. जो कोशिका के आंतरिक पाचन में सहायता करते हैं. इन एंजाइमों को संश्लेषण राइबोसोम द्वारा होता है. प्राथमिक लाइसोसोम की उत्पत्ति गॉल्जीकाय अथवा अंत प्रदव्यई जलिका से होती हैं.

2.द्वितीयक लाइसोसोम

द्वितीयक लाइसोसोम. इन्हें पाचन रिक्तिकाएं भी कहते हैं. इनका निर्माण प्राथमिक लाइसोसोम तथा फैगोसोम के जुड़ने से होता है..

3.अशिष्ट काय

गोस्वामी द्वारा बाहरी पदार्थों का जब अपूर्ण पाचन होता है यानि पूर्ण तरीके से पाचन नहीं होता तो अपशिष्ट काय बनते हैं.

4. ऑटोफैगिक रिक्तिकाएं

कभी-कभी कोशिका अपने अंतः कोशिकीय कोशिका अंगों जैसे माइट्रोकांड्रिया और अंतर प्रदव्यई जलिका आदि का भक्षण करने लगती है. तो इस क्रिया को ऑटोफोगी तथा तथा इसके द्वारा बनी रचनाओं को ऑटोफगोसोम या ऑटोफैगिक रिक्तिकाएं कहते हैं.

लाइसोसोम कैसा दिखता है?

लाइसोसोम शुरू में लगभग 50-70nm व्यास के गोलाकार पिंडों के रूप में दिखाई देते हैं और एक ही झिल्ली से बंधे होते हैं । एक पशु कोशिका में कई सौ लाइसोसोम मौजूद हो सकते हैं। हाल के काम से पता चलता है कि दो प्रकार के लाइसोसोम हैं: स्रावी लाइसोसोम और पारंपरिक।

लाइसोसोम नाम किसने दिया?

उन्हें बेल्जियम के जीवविज्ञानी क्रिश्चियन डी ड्यूवे द्वारा खोजा और नामित किया गया था, जिन्हें अंततः 1974 में फिजियोलॉजी या मेडिसिन में नोबेल पुरस्कार मिला था। लाइसोसोम में 60 से अधिक विभिन्न एंजाइम होते हैं, और इसमें 50 से अधिक झिल्ली प्रोटीन होते हैं।

लाइसोसोम के अंदर प्रोटीन संश्लेषण कहाँ होता है?

प्रोटीन का संश्लेषण राइबोसोम प्र होता है जो अन्तद्रव्य जालिका पर स्थित होते है।

लाइसोसोम क्यों फटते हैं?

लाइसोसोमल आकार में वृद्धि मरने वाली कोशिकाओं के अंतःकोशिकीय स्व-पाचन के कारण हो सकती है। बड़े लाइसोसोम का टूटना आसान होता है, और टूटे हुए लाइसोसोम से हाइड्रोलाइटिक एंजाइमों की रिहाई से प्लाज्मा झिल्ली में व्यवधान हो सकता है। कोशिका मृत्यु रूपात्मक रूप से भिन्न एपोप्टोटिक और परिगलित प्रक्रियाओं (29) में हो सकती है।

क्या मनुष्यों में लाइसोसोम होते हैं?

लाइसोसोम केवल जंतु कोशिकाओं में पाए जाते हैं; एक मानव कोशिका में लगभग 300 होते हैं । वे न केवल बड़े अणुओं को पचाते हैं, वे कोशिका के अपशिष्ट उत्पादों को तोड़ने और उनसे छुटकारा पाने के लिए भी जिम्मेदार होते हैं। लाइसोसोम में 60 से अधिक विभिन्न एंजाइम होते हैं जो उन्हें इन प्रक्रियाओं को पूरा करने की अनुमति देते हैं।

लाइसोसोम का बिंदु क्या है?

लाइसोसोम कोशिका के पाचन तंत्र के रूप में कार्य करते हैं, कोशिका के बाहर से ली गई सामग्री को नीचा दिखाने और कोशिका के अप्रचलित घटकों को पचाने के लिए दोनों की सेवा करते हैं ।

लाइसोसोम का दूसरा नाम क्या है?

लाइसोसोम को कोशिका के आत्मघाती बैग के रूप में भी जाना जाता है। लाइसोसोम कोशिकाओं की संरचनाओं के अपशिष्ट निपटान के रूप में कार्य करते हैं।

मानव शरीर की आत्महत्या की थैली किसे कहते हैं?

मानव शरीर में आत्महत्या की थैली यकृत और प्लीहा को कहा जाता है।

 

इस पोस्ट में आत्महत्या की थैली किसे कहते हैं लाइसोसोम को आत्मघाती थैली क्यों कहते हैं लाइसोसोम को आत्मघाती थैली क्यों कहा जाता है लाइसोसोम आत्मघाती थैली लवक कहां पाए जाते हैं कोशिका के किन्हीं दो अंगो के नाम लिखिए जिसमें डीएनए पाया जाता है कोशिका का पावर हाउस किसे कहते हैं आत्महत्या की थैली क्या है? Atmahatya Ki Thaili Kya Hai लाइसोसोम किसे कहते हैं लाइसोसोम की खोज किसने की थी लाइसोसोम और लाइसोसोम में क्या अंतर है? लाइसोसोम कितने प्रकार के होते हैं? से संबंधित काफी महत्वपूर्ण जानकारी दी गई है यह जानकारी फायदेमंद लगे तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और इसके बारे में आप कुछ जानना यह पूछना चाहते हैं तो नीचे कमेंट करके अवश्य पूछे.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!