ITI

मानव की आँख की आंतरिक संरचना को चित्र बनाकर स्पष्ट करो

मानव की आँख की आंतरिक संरचना को चित्र बनाकर स्पष्ट करो

मानव आँख की संरचना-आँख एक ज्ञानेंद्रिय है जिसमें हमें दिखाई देता है। इसके निम्नलिखित भाग होते हैं.

1. नेत्र गोलक- आँख छोटे गोलक के रूप में होती है जो खोपड़ी के गर्त (कोटर) में लगी होती है। आँख में बहुत-से सहायक अंग होते हैं जो मुख्य रूप से आँख की रक्षा करते हैं। प्रत्येक नेत्र गोलक को काटने से पता चलता | है कि यह तीन भिन्न-भिन्न तहों का बना हुआ होता है जिनके बीच के दो स्थान पारदर्शक पदार्थ द्वारा भरे होते हैं।
2. दृढ़पटल (Sclerotic)– नेत्र गोलक का सफ़ेद अपारदर्शक भाग दृढपटल कहलाता है। नेत्र गोलक के अगल भाग के अतिरिक्त इसके चारों ओर दृढपटल होता है। इसका आगे का उभरा हुआ गोल भाग पारदर्शक है। इस भाग का श्वेतमंडल (Cornea) कहते हैं।
3. रक्तकपटल (Choroid)- नेत्र गोलक की दूसरी सतह रक्तकपटल (Choroid) कहलाती है। यह प्रायः भूरे रंग की होती है। यह योजी ऊतकों की बनी होती है। इसमें अनेक रुधिर वाहिकाएं होती हैं जो नेत्रों के लिए पोषक पदार्थ लाती हैं। रक्तकपटल का आगे का भाग कॉर्निया के पीछे एक वृत्ताकार पर्दे के समान भूरे रंग या नीले रंग का होता है। इसे आइरिस (Iris) कहते हैं।

4. दृष्टिपटल (Retina)–नेत्र गोलक की तीसरी तथा भीतरी यह दृष्टिपटल होती है। इस पर एक बिंदु होता है। जिस पर प्रकाश पड़ने से कोई संवेदन उत्पन्न नहीं होता। इस बिंदु को अंध-बिंदु (Blind Spot) कहते हैं। इसके विपरीत एक और बिंदु होता है जहाँ दर्शन शक्ति सबसे अधिक होती है। इसे पीत बिंदु (Yellow Spot) कहते हैं।
5. दृष्टि तंत्रिकाएं (Optic Nerves)-मस्तिष्क से बहुत-सी तंत्रिकाएँ निकलती हैं जो नेत्र गोलक के पीछे वाले भाग में प्रवेश कर जाती हैं। वे दृष्टि तंत्रिकाएं (Optic nerves) कहलाती हैं। ये तंत्रिकाएं नेत्र गोलक की सबसे भीतरी सतह बनाती हैं। इसी तंत्रिका की सतह को दृष्टिपटल कहते हैं।

जब कोई वस्तु आँख के सामने होती है तो उसका उल्टा प्रतिबिंब दृष्टिपटल पर बनता है। दृष्टि तंत्रिका तंतु दृष्टि संवेदन को मस्तिष्क में स्थित दृष्टि नेत्र की कोशिकाएं उल्टे प्रतिबिंब को सीधा करके उसका विश्लेषण कर देती हैं।

मानव आँख से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर

प्रश्न . लैंस से गुजरने वाली प्रकाश की किरणें क्या करती हैं ?
उत्तर- प्रकाश का अपवर्तन।
प्रश्न . मानव नेत्र किसका उपयोग कर वस्तुओं को देखने में हमें समर्थ बनाता है ?
उत्तर- प्रकाश का उपयोग।
प्रश्न . हमारी ज्ञानेंद्रियों में सबसे सुग्राही अंग कौन-सा है ?
उत्तर – नेत्र
प्रश्न  . मानव नेत्र की तुलना किससे की जाती है ?
उत्तर- कैमरे से।
प्रश्न  . आँख में कॉर्निया क्या है ?
उत्तर- कॉर्निया एक पतली पारदर्शी झिल्ली है जो नेत्र गोलक के अग्र पृष्ठ पर एक पारदर्शी उभार बनाती है।
प्रश्न  . नेत्र गोलक की आकृति कैसी होती है ?
उत्तर- लगभग गोलाकार।
प्रश्न  . नेत्र गोलक का व्यास कितना होता है ?
उत्तर- लगभग 2.3 cm.

प्रश्न . नेत्र में प्रवेश करने वाली प्रकाश किरणों का अधिकतर अपवर्तन कहां होता है ?
अथवा
मानव नेत्र का कौन-सा भाग नेत्र में प्रवेश करने वाले प्रकाश की मात्रा को नियंत्रित करता है?
उत्तर- कॉर्निया के बाहरी पृष्ठ पर।
प्रश्न . क्रिस्टलीय लैंस क्या करता है ?
उत्तर- विभिन्न दूरियों पर रखी वस्तुओं को रेटिना पर फोकसित करने के लिए आवश्यक दूरी में सूक्ष्म समायोजन करता है।
प्रश्न  . परितारिका कहाँ होती है ?
उत्तर- कॉर्निया के पीछे।
प्रश्न  . परितारिका क्या कार्य करती है ?
उत्तर- परितारिका गहरा पेशीय डायाफ्राम होता है जो पुतली के आकार को नियंत्रित करता है।
प्रश्न  . पुतली क्या करती है ?
उत्तर- पुतली नेत्र में प्रवेश करने वाले प्रकाश की मात्रा को नियंत्रित करती है।
प्रश्न  . रेटिना पर वस्तु का प्रतिबिंब कैसा बनता है ?
उत्तर- उल्टा और वास्तविक।

प्रश्न  . रेटिना पर प्रकाश सुग्राही कोशिकाएँ क्या उत्पन्न करती हैं ?
उत्तर- विद्युत् सिग्नल उत्पन्न करती हैं
प्रश्न  . अभिनेत्र लैंस की वक्रता को किसके द्वारा रूपांतरित किया जाता है ?
उत्तर- पक्ष्माभी पेशियों द्वारा।
प्रश्न  . लैंस की वक्रता में परिवर्तन से किसमें परिवर्तन हो जाता है ?
उत्तर- फोकस दूरी में।
प्रश्न . अभिनेत्र लैंस कब पतला हो जाता है ?
उत्तर- जब पेशियां शिथिल हो जाती हैं।
प्रश्न  . समंजन क्या है ?
उत्तर- अभिनेत्र लैंस की वह क्षमता जिसके कारण वह अपनी फोकस दूरी को समायोजित कर लेता है उसे समंजन कहते हैं।
प्रश्न  . नेत्र का निकट बिंदु किसे कहते हैं ?
उत्तर- वह न्यूनतम दूरी जिस पर रखी वस्तु बिना किसी तनाव के अत्यधिक स्पष्ट देखी जा सकती है उसे नेत्र का निकट बिंदु कहते हैं। किसी सामान्य दृष्टि के लिए यह दूरी लगभग 25 cm होती है।
प्रश्न . नेत्र का दूर बिंदु किसे कहते हैं ?
उत्तर- वह दूरतम् बिंदु जिस तक कोई नेत्र, वस्तुओं को सुस्पष्ट देख सकता है उसे नेत्र का दूर बिंदु कहते हैं।

इस पोस्ट में आपको मानव नेत्र के कार्य मनुष्य की आँख में किसी वस्तु का प्रतिबिम्ब बनता है मानव नेत्र का नामांकित चित्र मानव नेत्र तथा रंगबिरंगा संसार मानव नेत्र इन हिंदी आँख का नामांकित चित्र नेत्र लेंस नेत्र दोष मानव आंखे कितने मेगा पिक्सेल की होती है मानव नेत्र के महत्वपूर्ण भाग Manav Netra Prashn Uttar – मानव नेत्र प्रश्न उत्तर मानव आंख की संरचना Make the internal structure of the human eye as pictures and make it clear human eye diagram and functions से संबंधित काफी महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर दिए गए है .अगर यह प्रश्न उत्तर पसंद आए तो दूसरों को शेयर करना ना भूलें अगर इसके बारे में आपका कोई भी सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट करके जरूर बताएं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button