मानव में बच्चे का लिंग निर्धारण कैसे होता है

मानव में बच्चे का लिंग निर्धारण कैसे होता है

मानवों में लिंग का निर्धारण विशेष लिंग गुणसूत्रों के आधार पर होता है। नर में XY गुणसूत्र होते हैं और मादा में XX गुणसूत्र विद्यमान होते हैं। इससे स्पष्ट है कि मादा के पास Y गुणसूत्र होता ही नहीं है। जब नर-मादा के संयोग से संतान उत्पन्न होती है तो मादा किसी भी अवस्था में नर शिशु को उत्पन्न करने में समर्थ हो ही नहीं सकती क्योंकि नर शिशु में XY गुणसूत्र होने चाहिएँ।

निषेचन क्रिया में यदि पुरुष का X लिंग गुणसूत्र स्त्री के X लिंग गुणसूत्र से मिलता है तो इससे XX जोड़ा बनेगा अत: संतान लड़की के रूप में होगी लेकिन जब पुरुष का Y लिंग गुणसूत्र स्त्री के X लिंग गुणसूत्र से मिलकर निषेचन करेगा तो XY बनेगा। इससे लड़के का जन्म होगा। किसी भी परिवार में लड़के या लड़की का जन्म पुरुष के गुणसूत्रों पर निर्भर करता है क्योंकि Y गुणसूत्र को तो केवल स्त्री के पास होता है।

शरीर द्रव्य तथा परिसंचरण के महत्वपूर्ण प्रश्न

मानवों के रक्त प्लाज्मा में पाये जाने वाले ग्लोबुलिन्स प्राथमिक तौर पर किस काम में शामिल होते हैं :

A. रक्त का थक्का बनना [2009]
B. रक्त में ऑक्सीजन का परिवहन
C. देह तरलों का परासरण संतुलन
D. शरीर की सुरक्षा क्रियाविधियाँ

देह तरलों का परासरण संतुलन

यदि किसी कारणवश मानव हृदय के त्रिवलन कपाट के कंडरा रज्जुओं को होने वाली किसी क्षति के कारण, हृदय अंशतः कार्यविहीन हो जाता है. तो उसका तात्कालिक प्रभाव क्या होगा? [2010]

A. महाधमनी में रक्त का प्रवाह कम हो जाएगा
B. ‘पेसमेकर’ काम करना बंद कर देगा
C. रक्त के वापिस बायें एट्रियम (अलिंद) में प्रवाहित होने की प्रवृत्ति होगी
D. फुफ्फुस धमनी में रक्त का प्रवाह कम हो जाएगा

रक्त के वापिस बायें एट्रियम (अलिंद) में प्रवाहित होने की प्रवृत्ति होगी

मानवों में RBCs के विषय में क्या सही है?

A. ये CO2 के लगभग 20 – 25 प्रतिशत भाग का वहन करते हैं।
B. ये 99.5 प्रतिशत O2 का परिवहन करते हैं।
C. ये केवल 80 प्रतिशत ऑक्सीजन का परिवहन करते हैं तथा शेष 20 प्रतिशत भाग का परिवहन रक्त प्लाज्मा में घुली दशा में होता है।
D. ये CO2 का कतई वहन नहीं करते

ये CO2 का कतई वहन नहीं करते

एक सामान्य स्वस्थ मानव वयस्क के 100 Ml रक्त में हीमोग्लोबिन की मात्रा कितनी होती है?

A. 12-16mg
B. 5-11 Mg
C. 25–30mg
D. 17-20 Mg

12-16mg

ABO रक्त समूहन का नियंत्रण जीन I के द्वारा होता है जिसके तीन ऐलील (युग्मविकल्प) होते है एवं उनमें सह-प्रभाविता भी होती है। इनके छ: जीन प्रारूप होते हैं। बताइए लक्षणप्ररूप कितने हो सकते हैं?

A. पाँच
B. छः
C. तीन
D. चार

पाँच

मानव में “हिस बंडल” नामक संरचना किस अंगों में पायी जाती है।

A. मस्तिष्क
B. ह्रदय
C. वृक्क
D. अग्न्याशय

ह्रदय

निम्नलिखित में से कौन सा एक प्लाजमा प्रोटीन रक्त के स्कंदन में भाग लेता हैं?

A. एक एलब्यूमिन
B. सीरम अमाइलेज
C. एक ग्लोब्यूलिन
D. फाइब्रिनोजेन

सीरम अमाइलेज

धमनियों की सबसे अच्छी परिभाषा यह है कि वे ऐसी वाहिनियां होती है, जो

A. ऑक्सीजनित रक्त को विभिन्न अंगों तक पहुंचाती
B. रक्त को हृदय से दूर विभिन्न अंगों तक पहुंचाती हैं।
C. कोशिकाओं में विभक्त होकर फिर से जुड़ते हुए एक शिरा बना लेती हैं।
D. रक्त को एक अंतरंग अंश से दूसरे अंतरंग अंग में ले जाती है।

रक्त को एक अंतरंग अंश से दूसरे अंतरंग अंग में ले जाती है।

रक्त दाब के विषय में क्या कहना सही हैं?

A. 130/90 MmHg ऊँचा रक्त दाब माना जाता है जिसका उपचार किया जाना जरूरी है
B. 100/55 MmHg एक आदर्श रक्त दाब है
C. 105/50 Mm Hg रक्त दाब व्यक्ति को बहुत चुस्त बना देता है
D. यदि वह 190/110 MmHg हुआ तो उससे अति महत्वपूर्ण अंग जैसे कि मस्तिष्क तथा वृक्कों (गुर्दो) को हानि पहुंच सकती है।

100/55 MmHg एक आदर्श रक्त दाब है

शरीर के ऊतकों से निकली अधिकांश कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) रक्त के भीतर किस रूप में मौजूद हुआ करती है।

A. रक्त प्लाज्मा तथा RBCs में बाईकार्बोनेटों के रूप में।
B. रक्त प्लाज्मा में मुक्त CO2 के रूप में।
C. 70% कार्बमीनो – हीमोग्लोबिन तथा 30% बाइकार्बोनेटों के रूप में।
D. RBCs में कार्बेमीनो – हीमोग्लोबिन के रूप में।

70% कार्बमीनो – हीमोग्लोबिन तथा 30% बाइकार्बोनेटों के रूप में।

निम्नलिखित में से वह कौन सा एक लक्षण है जो मानवों तथा वयस्क मेंढ़कों, दोनों में समान पाया जाता है?

A. चार-कक्षीय हृदय
B. आंतरिक निषेचन
C. केंद्रकित लाल रक्त कोशिकायें
D. यूरिया उत्सर्गी विधि का उत्सर्जन

चार-कक्षीय हृदय

AB रूधिर समूह वाला व्यक्ति क्यों सार्व आदाता (ग्राही) माना जाता है ?

A. लाल रूधिर कोशिकाओं पर A और B दोनों प्रतिजन होते हैं तथा प्लाज्मा में प्रतिरक्षी अपस्थिति होती है।
B. प्लाज्मा में A और B दोनों प्रतिरक्षी होते हैं।
C. लाल रूधिर कोशिकाओं में कोई प्रतिजन नहीं होते और प्लाज्मा में प्रतिरक्षी नहीं होती।
D. प्लाज्मा में A और B दोनों प्रतिजन होते हैं पर प्रतिरक्षी नहीं होती।

प्लाज्मा में A और B दोनों प्रतिजन होते हैं पर प्रतिरक्षी नहीं होती।

परानुकंपी तंत्रिकाय संकेत हृदय के कार्य संचालन को कैसे प्रभावित करते हैं?

A. हृदय स्पंदन गति और हृदय निकास को कम करके
B. हृदय स्पंदन गति, हृदय निकास पर बिना प्रभाव किये, बढ़ जाती है
C. हृदय स्पंदन गति और हृदय निकास दोनों बढ़ जाते हैं
D. हृदय स्पंदन गति कम हो जाती है लेकिन हृदय निकास बढ़ जाता है

हृदय स्पंदन गति और हृदय निकास को कम करके

प्रत्येक हृद चक्र के दौरान उत्पन्न होने वाली ध्वनि तरंगों को सुनने के लिए चिकित्सक स्टेथोस्कोप का उपयोग करते हैं। दूसरी ध्वनि उस समय सुनाई देती है जब :

A. अंलिंदों से रूधिर के बलपूर्वक निलय में आने के कारण निलीय भित्तियों में कंपन्न होने लगता है।
B. निलयों से वाहिकाओं में रूधिर के बहने के बाद अर्धचंद्राकार कपाट बंद हो जाते हैं।
C. AV पर्वसंधि SA पर्वसंधि से संकेत प्राप्त करती है।
D. AV कपाट खुल जाते हैं।

अंलिंदों से रूधिर के बलपूर्वक निलय में आने के कारण निलीय भित्तियों में कंपन्न होने लगता है।

यदि आप किसी व्यक्ति में प्रतिरक्षियों की गंभीर कमी का अनुमान लगा रहे हैं, तो आप पुष्टि के लिए निम्नलिखित किससे प्रमाण प्राप्त करेंगे? [

A. सीरम एल्ब्यूमिन
B. हीमोसाइट
C. सीरम ग्लोब्यूलिन
D. प्लाज्मा में फिबिनोजिन

हीमोसाइट

निम्नलिखित जंतुओं में से किस एक में दो अलग परिसंचारी पथ होते हैं?

A. छिपकली
B. Asल
C. शार्क
D. मेंढक

शार्क

रुधिर के PH में होने वाली कमी के कारणः

A. हृदय-स्पंदन की दर कम हो जायेगी।
B.मस्तिष्क का रुधिर संभरण कम हो जायेगा।
C. ऑक्सीजन के साथ हीमोग्लोबिन की बंधुता घट जायेगी
D. यकृत द्वारा बाइकार्बोनेट का निष्कासन होने लगेगा।

मस्तिष्क का रुधिर संभरण कम हो जायेगा।

 

इस पोस्ट में आपको मानव में बच्चे का लिंग निर्धारण कैसे होता है ? Manav me ling nirdharan kaise hota hai मनुष्य में लिंग निर्धारण कैसे होता है? गर्भ निर्धारण कैसे होता है Ling Nirdharan kab hota hai महिला के गर्भाशय में कैसे होता है Manav Mein Bacche Ka Ling Nirdharan Kaise Hota Hai लिंग निर्धारण प्रणाली शरीर द्रव तथा परिसंचरण से संबंधित काफी महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर दिए गए है यह प्रश्न उत्तर फायदेमंद लगे तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और इसके बारे में आप कुछ जानना यह पूछना चाहते हैं तो नीचे कमेंट करके अवश्य पूछे.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!